ई-पेपर English IPL 2022 राशिफल दुनिया देश राज्य शहर राजनीति खेल मनोरंंजन व्यापार टेक्नोलॉजी शिक्षा जुर्म जीवन शैली धर्म करंट अफेयर्स अजब गजब यात्रा
72.1k
6

प्रेग्नेंसी से बचने के लिए कब ना करें सेक्स, कैसे होते है प्रेग्नेंट, जानें

Highlights

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अगर आप एक सिंगल पर्सन है, यानी कि आप वैवाहिक नही हैं या फिर आप अभी मां बनने के लिए तैयार नहीं है और साथ ही आप अपनी सेक्स लाइफ को भी भरपूर एजॉय करना चाहती हैं, तो आपके लिए ये जानना बहुत जरूरी है कि कैसे इससे बचें। क्योंकि बहुत सी रिसर्च कहती है कि 50% महिलाओं को ये नहीं पता कि प्रेग्नेंट कैसे और कब हुआ जाता है या इसके पीछे का असल सोर्स क्या है।

ये भी पढ़ें- ब्रेकअप के बाद प्रेगनेंट हुईं ज़ेन मलिक की गर्लफ्रेंड गीगी हदीद

ये भी पढ़े- कोरोना के संकट के बीच पोर्न देखने में व्यस्त हैं भारतीय, दुनिया में नबंर 1 पर भारत

प्रेग्नेंसी का मेन्स्टुअ्ल साइकल से कनेक्शन
ये तो हर कोई जनता है कि पीरियड का कनेक्शन प्रेग्नेंसी से होता है लेकिन ये बहुत कम लोग जानते हैं कि सेफ पीरियड में सेक्स करना भी कई बार प्राकृतिक रूप से गर्भनिरोधक का काम करता है। आपको इस सेफ पीरियड का पता लगाना जरूरी है और इसके लिए आपको अपने मासिक धर्म यानी की पीरियड सायकल को समझना होगा। 

सेक्स करना है पर प्रेग्नेंट नहीं होना
अगर आप सेक्स लाइफ में बहुत ज्यादा इनवोल्व है लेकिन प्रेग्नेंट होने का डर सताता है तो आपको अपने प्रजनन जागरूकता प्रक्रिया को समझना बहुत जरूरी है। यह आपको आपके मासिक धर्म का अनुमान लगाने में मदद करेगा। इसके जरिए आपको पता चलेगा आपके ओव्युलेशन का समय। अब आप सोच रही होंगी कि ये ओव्युलेशन क्या होता है तो घबराइए मत हम आपको बताएगें इसका मतलब

ओव्यूलेशन क्या होता है? 
ओव्युलेशन वो समय होता है, जब महिला के गर्भधारण करने की संभावना सबसे ज्यादा रहती है। सामान्य तौर पर ओव्युलेशन प्रक्रिया पीरियड्स शुरू होने के दो सप्ताह पहले होती है। यह वो समय होता है जब महिला के अंडाशय से अंडे मिलते हैं। ऐसे में यह तरीका आपको ओव्युलेशन के दौरान संबंध बनाते समय सतर्कता बरतने में मदद करता है।

गर्भवती होने की प्रक्रिया, कैसे बचें
चलिए अब एक बार फिर से आपको बताते है ताकि आप इसे आसानी से समझ सकें। पहले तो ये जानना जरूरी है कि आखिर गर्भधारण (कंसीव करने) की प्रक्रिया होती कैसे है। पुरूष का स्पर्म जब महिला के एग से मिलता है तो गर्भधारण होता है ये तो आपको पता ही होगा। अब इस पूरी प्रक्रिया की बात करें तो महिला की ओवरी (Ovary) से एग्स निकलते हैं, जो सिर्फ 12 से 24 घंटे तक शरीर में जीवित रहते हैं लेकिन पुरूषों का स्पर्म 3 से 5 दिन तक जीवित रह सकता है। आमतौर पर महिलाओं का मेन्स्टुअ्ल साइकल 28 दिन का होता है और ऑव्यूलेशन यानी एग रिलीज होने की प्रक्रिया 12, 13, 14 दिन के आसपास होती है। इस दौरान अगर एग, स्पर्म से मिलता है तो गर्भधारण हो जाता है। 


पीरियड्स के दौरान कैसे हो सकते है प्रेग्नेंट?
बहुत सी महिलाओं के शरीर में ऑव्यूलेशन के दौरान भी ब्लीडिंग होती है या फिर कई बार वजाइनल ब्लीडिंग को भी कई महिलाएं पीरियड्स समझने की भूल कर बैठती हैं। ऐसे में अगर ये सोचकर कि पीरियड्स चल रहे हैं और बिना प्रोटेक्शन के सेक्स किया जाए तो प्रेग्नेंट होने के चांसेज कई गुना बढ़ जाते हैं। इसके अलावा एक और बात है जिसपर ध्यान देने की जरूरत है। पुरूष द्वारा इजैक्युलेशन के बाद स्पर्म 3 दिन यानी 72 घंटे तक महिला के शरीर में जीवित रह सकता है। ऐसे में अगर पीरियड्स खत्म होने के दिनों में बिना प्रोटेक्शन यूज किए सेक्स किया जाए तो प्रेग्नेंसी की आशंका बनी रहती है।

प्रोटेक्शन (कंडोम) करे यूज
इसके अलावा प्रेग्नेंट ना होने का एक आसान तरीका है कि आप प्रोटेक्शन यूज करें। हालांकि कई बार प्रोटेक्शन भी 100% सॉर नहीं होते। वहीं आज की जेनरेशन प्रोटेक्शन यूज करने में वीलिव नहीं करती। 

Photos: इस कंपनी की मालकिन चाहती है 7 बच्चे, इन हॉट तस्वीरों से सोशल मीडिया पर मचाया तहलका

[6] User Comments

Vivek kumar
September 02nd, 2022 20:27 IST

Nice mujhe pshand hi sex

SHIVRAM
July 30th, 2022 17:32 IST

Mhushe.sex.pasnd.ha.yadi.kam.mile.to.mushe.call.kare.phone,8168835510

K Var Prasad
January 13th, 2022 08:16 IST

Safe day sexy tipe please

Aanu khan
January 13th, 2021 20:54 IST

Mere periods 27 ko hota ha aur 14 ko mana sex Kiya kya pregnant ho sktee hu aur agar sprem Ander Chala Jaya toh pregnant hota ha plz answer me

Rajiv sharma
July 08th, 2020 16:27 IST

Mai aur mera partner physical relation banana cahahte hain,par meri partner ki piriods 17th ko hai,par humdono avi kisi v tarah se baccha nhi cahahte hain,to plz mujhe bataiye ki physical relation banane k liye safe time kab rahega, jis se meri partner paragnent na ho paaye

Shyampal
June 25th, 2020 21:31 IST

Sexy Phil bidio Safi me

Next Story

पद्मश्री मालिनी अवस्थी के लोक गायन से महकेगी 'विश्वरंग पुस्तक यात्रा 2022

डिजिटल डेस्क, भोपाल। प्रख्यात लोक गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी 30 सितंबर की शाम 6.30 बजे राजधानी (भोपाल) के रवीन्द्र भवन में पारंपरिक गीतों की गुँजार बिखेरेंगी। इस अवसर पर डॉ. विनीता चौबे जी की पुस्तकें– "संस्कार गीत" एवं "चतुर्वेदी चंद्रिका" 'सामाजिक बदलाव के 125 साल' का 'लोकार्पण' समारोह पूर्वक होगा।

श्री संतोष चौबे, वरिष्ठ कवि–कथाकार, निदेशक, विश्व रंग एवं कुलाधिपति, रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय द्वारा परिकल्पित भारत के चार राज्यों में एक साथ 11 भव्य विश्व रंग पुस्तक यात्राएँ 100 जिलों, 200 विकास खंडों, 500 ग्रामपंचायतों की 15000 कि.मी. की यात्रा करते हुए गावों, कस्बों, शहरों में पुस्तक संस्कृति की अलख जगाती 'विश्वरंग पुस्तक यात्रा' 2022 के दस दिवसीय अभियान का चरम लोक संस्कृति एवं पुस्तक संस्कृति के इस उत्सवधर्मी उल्लास के साथ होगा। रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, भोपाल, डॉ. सी.वी. रमन विश्वविद्यालय, बिलासपुर (छत्तीसगढ़), खंडवा (मध्यप्रदेश), वैशाली (बिहार), आईसेक्ट विश्वविद्यालय, हजारीबाग (झारखंड) और उनके सहयोगी संस्थानों की संयुक्त पहल पर आयोजित किताबों के इस विशाल काफि़ले में मालिनी अवस्थी की शिरक़त सुरमई परंपरा और मनोरंजन का सुनहरा ताना-बाना लिए होगी। 'लोकराग' शीर्षक इस सभा का संयोजन टैगोर विश्व कला एवं संस्कृति केन्द्र, रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, भोपाल ने किया है। इस अवसर पर मालिनी अवस्थी को 'शारदा चौबे लोक सम्मान' से विभूषित किया जाएगा।

लखनऊ में जन्मी मालिनी का संगीत के प्रति लड़कपन से ही रूझान रहा। इसी आग्रह के चलते उन्होंने भात खण्डे संगीत विश्वविद्यालय (लखनऊ) से हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत में स्नातकोत्तर की उपाधि हासिल की। गायिकी में निखार और व्यावहारिक पहलुओं के मार्गदर्शन के लिए मूर्धन्य गायिका गिरिजा देवी की शागिर्द बनीं। तालीम और अभ्यास की पूँजी लेकर मालिनी ने जब सार्वजनिक सभाओं में दस्तक दी तो उनकी मीठी-मदिर और ठेठ मिट्टी की सौंधी गंध से महकती गायिकी ने हज़ारों श्रोताओं को उनका मुरीद बना लिया है। भारत के अनेक लोक उत्सवों और कुंभ-मेलों के आमंत्रण मिले। एनडीटीवी इमेजिन रियलिटी शो 'जूनून' के जरिए मालिनी जी की गायिकी का ठेठ पारंपरिक अंदाज सरहद पार के मुल्कों को भी रास आया है। भारत सरकार के पद्मश्री अलंकरण के साथ ही संगीत नाटक अकादेमी दिल्ली और मध्यप्रदेश सरकार के राष्ट्रीय अहिल्या बाई सम्मान से भी उन्हें विभूषित किया जा चुका है।

Next Story

जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए अनिल भसीन ने अपनी नई किताब "रीसेट योर लाइफ" के लॉन्च के माध्यम से एक सरल रूपरेखा को शेयर  किया है

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। हम सभी ने अपने जीवन के किसी न किसी अवस्था में असफलताओं का सामना किया ही होगा क्योंकि यह हम सबके लिए  एक आम बात जैसीही होती है। ऐसे समय में, हर कोई व्यक्तिसफलता प्राप्त करने की ख्वाहिश  का बेसब्री से इंतजार करता ही है। हालांकि,इसके लिए आपने अपने दृष्टिकोण को बदलने, शुभचिंतकों और सलाहकारों से राय लेने या सलाह लेने के अनेक प्रयास किए होंगे, लेकिन इन सबके अलावा एक और चीज भी हो सकती है जो आपकी विचार प्रक्रिया और जीवन-धारा के रुख को बदलने में मदद कर सकती है। और वो चीज़ है - प्रेरक पुस्तकों को अपना जीवन संबल बनाना।

अनिल भसीन एक प्रसिद्ध मोटिवेशनल स्पीकर होने के साथ एक प्रसिद्ध लेखक भी हैं और उनकी लिखी पुस्तक - *अपने जीवन को रीसेट करें- सफलता प्राप्त करने की सरल रूपरेखा”, एक ऐसी पुस्तक है जो आपको सफलता की सीढ़ी को चढ़ने का एक अमूल्य संदेश दे सकती है।

स्वयं को'रीसेट योर लाइफ' से प्रेरित करें

जीवन में कभी-कभी ऐसा भी होता है जब आप अपनी असफलताओं से भरे समय से खुद को बाहर निकालने और अपनी जिंदगी को फिर से शुरू करने में स्वयं को सक्षम नहीं पाते हैं। तब उस समय व्यक्ति को अपने जीवन को पटरी पर लाने के लिए एक मजबूत प्रोत्साहककी ज़रूरत महसूस होती है। *'रीसेट योर लाइफ'*आपके जीवन को मजबूती देने वाली वह बाहरी ताकत है जो आपको आगे बढ़ने के लिए कमर कसने के लिए प्रेरित कर सकती है। तो क्यों न आप  अपने जीवन में खुशनुमा परिवर्तन लाने के लिए एक बार इस पुस्तक को हाथ में लेकर देखें!

अनिल भसीन ने अपनी विकास यात्रा में निजी और पेशेवर जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में व्यापक रूप से अनुभव किए गए तजुर्बों को इस पुस्तक में समेटने का अथक प्रयास किया है।रोजगार ढूँढने वाले एक सामान्य युवक अनिल से लेकर 1.3 बिलियन डॉलर की कंपनी हैवेल्स के अध्यक्ष अनिल भसीन बनने तक की विकास यात्रा में पाठक उस सूत्र को देख सकते हैं जिसके माध्यम से वो एक अनुभवी और सफल व्यक्तित्व के रूप में उभर कर आते हैं। सुनिश्चित सफलता प्राप्त करने के लिए बनाई गई यह रूपरेखा असंदिग्ध रूप से ही आपके जीवन को फिर से व्यवस्थित करते हुए आपको सफलता की ओर ले जासकती है।

अनिल के उत्थान और व्यावहारिक दृष्टिकोण को उनकी पुस्तक में कोडित एम-सी-ए सूत्र में देखा जा सकता है। उनके जीवन की कहानियां पाठकों को इस सूत्र और उसकी उपयोगिता को समझने में मदद करती हैं।

सफलता के लिए एमसीए फॉर्मूला
अनिल भसीन द्वारा लिखी गई इस प्रेरक पुस्तक के शब्दों और पंक्तियों के ताने-बाने में, आप सफलता के लिए लेखक के एम-सी-ए फॉर्मूले को बहुत आसानी से देख सकते हैं: 

●    अपनी मानसिकता को रीसेट करें
●    अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए स्पष्ट रहें 
●    अपने लक्ष्यों प्राप्त करने के लिए ठोस कार्य करें 

इसके साथ ही अनिल भसीन का यह भी दृढ़ विश्वास है कि हर किसी को निश्चित रूप से अपनी असफलताओं से बाहर निकलने और अपने जीवन का 'रीसेट' बटन दबाने का मौका मिलता है। दरअसल,यह अनूठा सूत्र तीन गुना स्तर पर काम करता है और जो भी आप अपनी जिंदगी में प्राप्त करना चाहते हैं उसे प्राप्त करने का आश्वासन भी देता है। इसके बाद , आप अपनी सफलता की यात्रा को शुरू कर सकते हैं।
इस किताब के हर पेज और हर शब्द के बीच में कहीं न कहीं आपको वह मिल जायेगा जो आपके जीवन में सफल होने के लिए नितांत आवश्यक हो सकता है।और इसके साथ ही जीवन की चुनौतियों और असफलताओं को दूर करने के लिए इच्छित  समाधान की आपकी तलाश अनिल भसीन की 'रीसेट योर लाइफ' के साथ समाप्त हो जाती है। आपकी कोई भी स्थिति हो, इसके बावजूद, आप निश्चय ही सफलता का पुरस्कार प्राप्त करते हुए जीवन की महान ऊंचाइयों तक सरलता से पहुंच सकते हैं।
 

Next Story

जीवन के हर पड़ाव पर जरूरी है टर्म इन्श्योरेन्स। जानिए कैसे

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। टर्म इंश्योरेंस, लाइफ इंश्योरेंस का सबसे किफायती प्रकार है। यदि बीमित व्यक्ति की दुर्भाग्यवश मृत्यु हो जाती है, तो टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्लान में उल्लिखित नॉमिनी व्यक्ति को लाइफ इंश्योरेंस के रूप में वित्तीय सुरक्षा प्रदान की जाती है। इस वित्तीय सुरक्षा के बदले में, पॉलिसीधारक को लाइफ इंश्योरेंस प्रदाता कंपनी को प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है। प्रीमियम की गणना के लिए आप टर्म इंश्योरेंस कैलकुलेटर का उपयोग कर सकते हैं। टर्म प्लान एक शुद्धलाइफ कवर है, इसलिए, यदि बीमित व्यक्ति पॉलिसी अवधि के समापन तक जीवित रहता है, तो उसे नियमित टर्म प्लान के मामले में कोई रिटर्न नहीं मिलेगा। 

आइये इस ऑर्टिकल में टर्म इंश्योरेंस क्यों जरुरी है, इस बारे में जानते हैं-

आपको टर्म इंश्योरेंस की आवश्यकता क्यों है?

चाहे आप जीवन के किसी भी पड़ाव पर हों, टर्म लाइफ इन्श्योरेन्स आपके काम जरूर आ सकता है। यदि आप एक युवा हैं, तो आप कम प्रीमियम दरों पर एक अधिक कवर का टर्म इन्श्योरेन्स ले सकते हैं। इस समय आपके ऊपर ज़िम्मेदारियाँ उतनी नहीं होती, पर उम्र के साथ इनमें बढ़ोतरी होती है। टर्म इन्श्योरेन्स की मदद से आप अपनी शादी के बाद अपने जीवन साथी को, माता-पिता को, तथा कुछ वर्षों बाद अपने बच्चों को  वित्तीय सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। आगे चलकर जब आप अपना घर लेंगे, गाड़ी लेंगे, तथा कोई अन्य ऋण अपने सर लेंगे, तो उसे चुकाने का भार भी आप अपनों के सर से टाल सकते हैं, एक टर्म इन्श्योरेन्स प्लान की मदद से। अंत में, सेवानिवृति के उपरांत भी यदि कोई आप पर आर्थिक रूप से निर्भर हो, तो उनके लिए भी एक टर्म प्लान ले सकते हैं। 

ध्यान रखें की उम्र के साथ साथ प्रीमियम दरों में भी बढ़ोतरी होती है, तो जितनी जल्दी हो सके, टर्म इन्श्योरेन्स में निवेश जरूर करें। यहां कुछ सामान्य कारण बताए जा रहे हैं, जिससे यह पता चलता है कि टर्म इंश्योरेंस के क्या फायदे हैं:
●    टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्रियजनों की रक्षा करता है
●    टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉकेट फ्रेंडली है
●    टर्म लाइफ इंश्योरेंस आपके परिवार की ऋण के बोझ से बचाता है 
●    यह ऐड-ऑन राइडर्स के साथ आता है
●    यह आय कर अधिनियम, 1961 की धारा 80 सी के मुताबिक टैक्स बचाने में मदद करता है 

अपने लिए उपयुक्त टर्म इंश्योरेंस प्लान कैसे चुनें

अपने लिए उपयुक्त टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्लान चुनने के लिए टर्म इंश्योरेंस कैलकुलेटरआपकी मदद कर सकता है। आपको अपनी ज़रूरतों के लिए सही टर्म इंश्योरेंस प्लान चुनने में जिन  मापदंडों को ध्यान में रखना होता है, वे निम्न हैं-

●    कवरेज की राशि: आप सुनिश्चित करें कि कवरेज की राशि आपके परिवार की दैनिक जरूरतों, उनके जीवन लक्ष्यों की लागत और आपके नाम पर किसी भी बकाया ऋण को कवर करने के लिए पर्याप्त है।

●    पॉलिसी टर्म: टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्लान में एक पॉलिसी अवधि होनी चाहिए जो आपकी कमाई के वर्षों, आपके सबसे लंबे जीवन लक्ष्य और आपके सबसे लंबे कर्ज को कवर करने के लिए पर्याप्त हो। 

●    कवरेज की लागत: यदि आप एक टर्म लाइफ इन्शुरन्स प्लान खरीदते हैं जो आपके बजट से बाहर है, तो आपको प्रीमियम को बनाए रखना मुश्किल हो सकता है। यह, बदले में, नीति को समाप्त करने का कारण बन सकता है। तब आप अपने टर्म प्लान द्वारा दिए गए सभी लाभों को खो देंगे। इसलिए एक टर्म प्लान चुनना महत्वपूर्ण है जिसे आप खरीद सकते हैं।

●    ऐड-ऑन राइडर्स का चयन करें: ऐड-ऑन राइडर्स अतिरिक्त वैकल्पिक कवर हैं जिन्हें आप अतिरिक्त प्रीमियम के लिए बेस कवर के साथ खरीद सकते हैं। ये राइडर्स विशिष्ट घटनाओं के लिए वित्तीय कवरेज प्रदान करते हैं। कुछ सामान्य राइडर्स में क्रिटिकल इलनेस राइडर, एक्सीडेंटल पर्मानेंट पार्शल/टोटल डिसेबिलिटी राइडर, प्रीमियम वेवर राइडर, आदि शामिल हैं। तय करें कि आपको इनमें से कोई चाहिए या नहीं और अपनी योजना खरीदते समय ही उन्हें खरीद लें।

●    क्लेम सेटलमेंट रेशीयो सही होना चाहिए: उपयुक्त टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्लान आपके नॉमिनी व्यक्तियों को विश्वसनीय सुरक्षा प्रदान करती है। यह सुनिश्चित करने के लिए आपको सही क्लेम सेटलमेंट रेशीयो वाली कंपनी से टर्म इंश्योरेंस कवर लेना चाहिए। प्रतिशत जितना अधिक होगा, आपके नॉमिनी के वास्तविक क्लेम का तुरंत सेटलमेंट होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी।

तो इस प्रकार आप एक सही टर्म लाइफ इन्श्योरेन्स प्लान का चयन कर जीवन के किसी भी पड़ाव में अपने परिवार और प्रियजनों को वित्तीय सुरक्षा का तोहफा दे सकते हैं। कम से कम उम्र में खरीदने पर आपको सबसे अधिक लाभ प्राप्त होंगे, हालांकि आम तौर पर यह योजनाएँ जीवन के हर चरण में किफायती ही होती हैं। 
 

Next Story

पड़ोसी राज्य अपनाएंगे छत्तीसगढ़ का नक्सल उन्मूलन माडल

डिजिटल डेस्क, रायपुर। छत्तीसगढ़ में पिछले चार वर्षों में नक्सली घटनाओं में कमी आई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, नक्सलियों का जमावड़ा सुकमा, बीजापुर और दंतेवाड़ा जिले के कुछ इलाकों तक सिमट गया है। ओडिशा और तेलंगाना सीमा पर नक्सलियों को रोकने में फोर्स सफल हुई है।

एक दिन पहले ही पूर्वी क्षेत्रीय समन्वय समिति की बैठक में छत्तीसगढ़ माडल पर आगे बढ़ने की रणनीति पर विचार किया गया। छत्तीसगढ़ में फोर्स ने पहले धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस कैंप खोले, फिर विकास के लिए अंदरूनी इलाकों में सड़क का निर्माण किया। अब कैंप में राशन दुकान, एटीएम सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। तेलंगाना, ओडिशा और झारखंड अब इसी माडल पर आगे बढ़ेंगे।

एंटी नक्सल आपरेशन के आला अधिकारियों ने बताया कि पड़ोसी राज्य भी अंदरूनी इलाकों में कैंप खोलकर विकास को पहुंचाने की तैयारी में हैं। प्रदेश में पिछले चार वर्षों में सबसे ज्यादा कैंप खोले गए। इससे नक्सली वारदातो में कमी आई है। इसके साथ ही ग्रामीण इलाकों में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के माध्यम से सड़क का निर्माण किया जा रहा है। मोबाइल टावर भी लगाए जा रहे हैं। इससे कनेक्टिविटी बेहतर हो रही है।

मोबाइल फोन गांव तक पहुंचने के बाद पुलिस के पास खुफिया सूचना आसानी से पहुंच रही है। इससे नक्सलियों के जमावड़े पर पूरी योजना बनाकर कार्रवाई की जा रही है। सरकार की योजनाओं के पहुंचने के कारण आदिवासियों में भरोसा जगा है, जिसके कारण ग्रामीण क्षेत्र में नक्सलियों की पैठ कमजोर हुई है।