जनादेश 2019 देश विदेश मुख्य शहर राज्य राशिफल मनोरंजन बिज़नेस Gadgets ऑटोमोबाइल लाइफस्टाइल स्पोर्ट्स IPL धर्म अजब गजब वीडियो फोटोज रेसिपी ई-पेपर
387
0
0

लोकसभा चुनाव की तैयारियों के लिए मुंबई में 11 को भाजपा की बैठक

डिजिटल डेस्क, मुंबई। लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने से पहले सत्ताधारी भाजपा मिशन मोड पर आ गई है। भाजपा के चुनाव समन्वय समिति की बैठक 11 मार्च को दादर स्थित मुंबई भाजपा कार्यालय में होगी। बैठक में भाजपा कोटे की 25 लोकसभा सीटों के प्रदेश अध्यक्ष, समन्वयक समिति के पदाधिकारी समेत अन्य नेता मौजूद रहेंगे। बैठक में भाजपा के एक केंद्रीय पदाधिकारी नेताओं को आचार संहिता का पालन करते हुए चुनाव में प्रचार बारे में मार्गदर्शन करेंगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रावसाहब दानवे पार्टी के पदाधिकारियों को भी संबोधित करेंगे। 

तैयारी होगी स्टार प्रचारकों की सूची 
दूसरी ओर पार्टी ने लोकसभा चुनाव प्रचार के लिए स्टार प्रचारकों की सूची मंगाना शुरू कर दिया है। जिला स्तर के नेताओं से कहा गया है कि वे अपने लोकसभा क्षेत्र में चुनावी प्रचार के लिए कौन-कौन से नेता को बुलाना चाहते हैं, इसकी सूची पार्टी मुख्यालय को सौंपें।

पार्टी कार्यालय में बनेगा वॉररूम
लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा के पार्टी कार्यालय में वॉररूम बनाया जाएगा। पार्टी की तरफ से इसकी तैयारी चल रही है। वॉररूम के जरिए पार्टी के उम्मीदवारों के चुनाव प्रचार, सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों तक पहुंचने की कोशिश की जाएगी। 

भाजपा ने पालघर लोकसभा सीट शिवसेना के लिए छोड़ी
लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन के बाद भाजपा ने पालघर सीट शिवसेना के लिए छोड़ने का फैसला किया है। भाजपा सूत्रों ने यह जानकारी दी है। गठबंधन के लिए शिवसेना पालघर सीट पर अड़ी हुई थी। पालघर सीट से शिवसेना की तरफ से श्रीनिवास वनगा चुनाव लड़ेंगे। शिवसेना श्रीनिवास की उम्मीदवारी की घोषणा पहले ही कर चुकी है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में पालघर सीट से श्रीनिवास के पिता चिंतामण वनगा ने चुनाव जीता था। लेकिन पिछले साल चिंतामण वनगा के निधन के बाद हुए उपचुनाव में उनके बेटे श्रीनिवास को शिवसेना ने अपने पाले में लाकर उम्मीदवारी दी थी। पर उन्हें भाजपा के उम्मीदवार राजेंद्र गावित से हार का सामना करना पड़ा था। उपचुनाव के नतीजों के बाद पालघर पहुंचने पर उद्धव ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए श्रीनिवास की उम्मीदवारी की घोषणा की थी।

भाजपा के एक पदाधिकारी ने कहा कि शिवसेना की मांग को देखते हुए पार्टी ने पालघर सीट छोड़ दी है, लेकिन शिवसेना के लिए यह सीट काफी मुश्किल होगी। क्योंकि शिवसेना को पालघर में बहुजन विकास आघाड़ी से कड़ी मिलने की उम्मीद है। शिवसेना ने जिस तरह दबाव बना कर भाजपा से उसकी यह सीट ली है, उससे स्थानीय भाजपा नेताओं में नाराजगी है। पिछले दिनों कई भाजपा पदाधिकारियों ने इस्तीफा दे दिया है।