जनादेश 2019 देश विदेश मुख्य शहर राज्य राशिफल मनोरंजन बिज़नेस Gadgets ऑटोमोबाइल लाइफस्टाइल स्पोर्ट्स धर्म अजब गजब वीडियो फोटोज रेसिपी ई-पेपर
2.1k
0
0

हादसे पर सियासत : महापौर-आयुक्त को हटाने की मांग, घायलों से मिले सीएम, प्राथमिक रिपोर्ट में बीएमसी जिम्मेदार

डिजिटल डेस्क, मुंबई। चुनाव का मौसम है, इसलिए महानगर में पुल हादसे के बाद इस पर राजनीति तेज हो गई है। विपक्ष सरकार पर असंवेदनशीलता और लापरवाही का आरोप लगा रही है, वहीं मुख्यमंत्री ने बीएमसी द्वारा किए गए सुरक्षा जांच पर सवाल उठाते हुए जिम्मेदारी तय करने की बात कही है। हादसे के बाद ही कांग्रेस ने रेलमंत्री का भी इस्तीफा मांग लिया था हालांकि अब साफ है कि पुल मुंबई महानगर पालिका के अधीन है। हादसे के बाद घायलों से मिलने के बजाय शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे अमरावती में चुनावी रैली संबोधित करने चले गए इसलिए वे भी विपक्ष के निशाने पर हैं। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को सेंट जार्ज और जीटी अस्पतालों में भर्ती मरीजों से मुलाकात कर उनकी हालचाल का जायजा लिया। सरकार पहले ही मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता और घायलों को 50 हजार मदद और मुफ्त इलाज का ऐलान कर चुकी है। घायलों को देखने पहुंचे राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटील ने कहा कि इतनी छोटी आर्थिक मदद से कुछ नहीं होगा। जिन लोगों ने जान गंवाई है उनके बच्चों की परवरिश कैसे होगी। उनके परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि स्ट्रक्चरल ऑडिट के बाद भी हादसा हुआ इससे पता चलता है कि ऑडिट में भी भ्रष्टाचार हो सकता है। उन्होंने पुल की जगह भुयारी मार्ग बनाए जाने की मांग की।