जनादेश 2019 देश विदेश मुख्य शहर राज्य राशिफल मनोरंजन बिज़नेस Gadgets ऑटोमोबाइल लाइफस्टाइल स्पोर्ट्स धर्म अजब गजब वीडियो फोटोज रेसिपी ई-पेपर
6.5k
0
0

Volkswagen पर NGT ने लगाया 500 करोड़ रुपए का जुर्माना

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जर्मनी की ऑटो क्षेत्र की प्रमुख कंपनी Volkswagen पर राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) ने गुरुवार को 500 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। एनजीटी के चेयरमैन न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने Volkswagen को जुर्माने की ये राशि अगले दो महीनों में चुकाने के निर्देश दिए हैं। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने यह जुर्माना कंपनी द्वारा कार में गैरकानूनी तरीके से चिप सेट लगाने पर लगाया है। 

बता दें कि NGT ने 16 नवंबर 2018 को कहा था कि फॉक्सवैगन ने देश में डीजल कारों में उत्सर्जन छिपाने वाले उपकरणों का इस्तेमाल कर पर्यावरण को नुकसान पहुंचाया है। (NGT) ने अपने आदेश की अवहेलना करने के लिए कंपनी को फटकार लगाई थी। NGT ने कंपनी को 100 करोड़ रुपए का जुर्माना केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पास जमा कराने का आदेश भी दिया था। 

मामला
बता दें कि कार निर्माता कंपनी Volkswagen द्वारा अपने डीजल वाहनों में कार्बन उत्सर्जन कम दिखाने के लिए हेर-फेर करने वाली डिवाइस लगाने का मामला सामने आया था। कंपनी ने साल 2015 में पहली बार ये बात कबूल की थी कि उसने 2008 से 2015 के बीच 1.11 करोड़ गाड़ियों में डिफिट डिवाइस लगाया था। ये सभी गाड़ियां दुनियाभर में बेची गई थी। इस गड़बड़ी के कारण सड़कों पर चलती फॉक्सवैगन की गाड़ियों वातावरण प्रदूषण हुआ। 

जबकि प्रदूषण को रोकने के लिए कार निर्माता कंपनी को कई नियमों का पालन करना अनिवार्य होता है, लेकिन इन नियमों का पालन कंपनी ने नहीं किया। मामला सामने आने के बाद NGT ने जांच के लिए एक कमेटी बनाई थी, जिसने पर्यावरण को हुए नुकसान का आकलन किया था। कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद NGT ने Volkswagen कंपनी पर 171 करोड़ का जुर्माना लगाया था।

आंकड़ा
NGT द्वारा 28 दिसंबर 2018 को इस मामले में एक रिपोर्ट दर्ज की गई है। जिसमें बताया गया है कि अनुमानत: Volkswagen की कारों ने साल 2016 में तकरीबन 48.678 टन एनओएक्स (नाइट्रस ऑक्साइड) का उत्सर्जन किया है। इस रिपोर्ट को ही आधार मानकर एनजीटी ने एक आंकड़ा तैयार किया है जिसके अनुसार इस अतिरि​क्त नाइट्रस ऑक्साइड के उत्सर्जन से देश भर में प्रदूषण का स्तर बढ़ा है और उसी के अनुसार कंपनी पर 171.34 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया। इसके बाद भी कंपनी ने समय सीमा में यह जुर्माना जमा नहीं किया।