पुलवामा अटैक देश विदेश कुंभ 2019 मुख्य शहर राज्य राशिफल मनोरंजन बिज़नेस Gadgets ऑटोमोबाइल लाइफस्टाइल स्पोर्ट्स धर्म अजब गजब वीडियो फोटोज रेसिपी ई-पेपर
1.8k
1
0

आम चुनाव से पहले भारत दौरे पर आ सकते हैं इजरायल के प्रधानमंत्री

Highlights

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू चुनाव से पहले फरवरी या मार्च में भारत का दौरा कर सकते हैं। नेतन्याहू इससे पहले जनवरी, 2018 में भारत दौरे पर आए थे। यह उनका दूसरा भारतीय दौरा होगा। इजराइल (अप्रैल) और भारत (मई) दोनों देशों में इस साल आम चुनाव होने हैं। ऐसे में नेतन्याहू का यह दौरा काफी अहम माना जा रहा है। 

सूत्रों के अनुसार दोनों देशों के बीच एक तारीख पर सहमति बनाए जाने को लेकर काम किया जा रहा है। हालांकि अभी तक कोई कन्फर्म डेट उपलब्ध नहीं हो सका है। दोनों पक्षों ने अपनी पसंदीदा तारीखों के बारे में बताया है, लेकिन इस पर कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है। हालांकि यात्रा फरवरी या मार्च में होने की संभावना है।

इससे पहले इजराइल के नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर मीर-बेन-शब्बत भारत दौरे पर आए थे। इस दौरान नेतन्याहू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बातचीत भी की थी और दोनों देशों के बीच मीटिंग को लेकर प्लान किया था। इस दौरान इजरायली प्रधानमंत्री ने फिर से भारत आने की इच्छा व्यक्त की थी, जिसपर पीएम मोदी ने सहमति भी जताई थी। इस दौरान मीर भारत के NSA अजीत डोभाल से भी मिले थे। ऐसा कहा जा रहा है कि भारत इजराइल के साथ आर्म्स डील करना चाहता है।

इजरायली प्रधानमंत्री के ब्यूरो ने बताया कि बैठक में दोनों देशों के बीच संबंधों के बारे में चर्चा, इजरायल और भारत के बीच सुरक्षा, तकनीकी और सामाजिक आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देने को लेकर समझौते हुए। नेतन्याहू इससे पहले जनवरी 2018 में भारत की यात्रा की थी, जबकि पीएम मोदी 2017 में इजराइल दौरे पर गए थे। इस दौरान पीएम मोदी यहूदी देश का दौरा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री भी बने थे।

नेतन्याहू इन दिनों इंटरनेशनल कम्यूनिटी में इजरायल के पक्ष को मजबूत करने के लिए कई विदेशी दौरे किए हैं। नेतन्याहू के समर्थक उन्हें वैश्विक नेता के रूप में प्रोजेक्ट करने की तैयारी में हैं। इसी कड़ी में नेतन्याहू ने ओमान और चाड का दौरा भी किया था। नेतन्याहू के इस दौरे देश की बड़ी कूटनीतिक सफलता के रूप में देखा गया। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे पहले इजरायल का इन देशों के साथ कोई राजनयिक संबंध नहीं था। ऐसे में भारत का दौरा उनके लिए और भारत के लिए भी काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।