जनादेश 2019 देश विदेश मुख्य शहर राज्य राशिफल मनोरंजन बिज़नेस Gadgets ऑटोमोबाइल लाइफस्टाइल स्पोर्ट्स IPL धर्म अजब गजब वीडियो फोटोज रेसिपी ई-पेपर
5.3k
3
0

न्यूजीलैंड में आतंकी हमला, 49 की मौत, तमाम देशों ने की हमले की निंदा

Highlights

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अमेरिका और भारत समेत दुनिया के तमाम देशों ने न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हुए आतंकवादी हमले की घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने न्यूज़ीलैंड के पीएम को लिखे एक पत्र में, पीएम मोदी ने आतंकवाद और हिंसा के ऐसे कार्यों का समर्थन करने वाले सभी लोगों की कड़ी निंदा की। पीएम मोदी ने जोर देकर कहा कि विविध और लोकतांत्रिक समाजों में नफरत और हिंसा का कोई स्थान नहीं है।

बता दें कि आतंकियों ने हमले में दो मस्जिदों को निशाना बनाया था जिसमें 49 लोगों की मौत हो गई है। पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने बताया कि क्राइस्टचर्च की अल-नूर और लिनवुड मस्जिद में शुक्रवार दोपहर नमाज शुरू होने वाली थी तब ये हमला हुआ। हमलावर एक ऑस्ट्रेलियाई युवक ब्रेंटन टैरेंट (28) था। उसने मस्जिद में घुसने से पहले ही फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमिंग शुरू कर दी। करीब 17 मिनट के यह वीडियो हमले के एक हिस्से को दिखाता है। 

क्लिप को देखने से लग रहा है कि इसे हेलमेट कैमरे से बनाया गया है। हमलावर कार में बैठकर मस्जिद तक पहुंचता है और हाथों में बंदूक लेकर मस्जिद मे दाखिल हो जाता है। इसके बाद वह लोगों पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर देता है। चुन-चुन कर वह लोगों को मारता है। बंदूक की गोली खत्म हो जाने के बाद वह अपनी बंदूक बदलता है और दोबारा फायरिंग शुरू कर देता है। इसके बाद जब अपने साथ लाए बंदूकों की गोलियां खत्म हो जाती है तो फिर वह कार में लौटता है और दूसरी बंदूक निकालता है। इसके बाद वह लोगों की बॉडी पर पास से गोली चलाता है।

इसके कुछ देर बाद वह कार में फिर से लौटता है और वहां से कार ड्राइव करते हुए चला जाता है। कार में वह बंदूक के अटकने और लोगों को आसानी से मारने के बारे में बात करता है। हालांकि फेसबुक और ट्विटर दोनों ने यह वीडियो ब्लॉक कर दिया है। सोशल मीडिया पर एक 87 पन्नों का मेनिफेस्टो भी वायरल हो रहा है। जिस अकाउंट से इस मेनिफेस्टो को पोस्ट किया गया है उसे हमलावर का माना जा रहा है। जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल इस मेनिफेस्टो में किया गया है वो आईएसआईएस और अलकायदा द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली भाषा के समान है।

बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी भी इस मस्जिद में नमाज पढ़ने के लिए आए थे। जैसे ही यह खिलाड़ी बस से उतरे, उन्होंने मस्जिद के अंदर गोलियों की आवाज सुनी। वे भीतर जाने ही वाले थे कि कई लोग अंदर से भागते हुए निकले। 10 मिनट में ही खिलाड़ी वहां से होटल के लिए निकल गए। बांग्लादेशी टीम के ओपनर बल्लेबाज तमीम इकबाल ने सभी खिलाड़ियों के सुरक्षित होने की जानकारी ट्वीटर पर दी। घटना के बाद न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के बीच होने वाले  तीसरे टेस्ट मैच को रद्द कर दिया गया है।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न ने इसे एक्स्ट्राऑर्डिनरी एंड अनप्रेसिडेंटेड एक्ट ऑफ वायलेंस करार दिया है। उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड में हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है। आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में एक महिला समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने मस्जिद के पास से एक कार से कई आईईडी को डिफ्यूज किया। उधर, ऑकलैंड स्थित ब्रिटोमार्ट स्टेशन पर भी एक बम डिफ्यूज किया गया। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन के मुताबिक- ब्रेंटन ऑस्ट्रेलिया का नागरिक है और वह कट्टरपंथी राइट विंग से जुड़ा है।

इस हमले की दुनिया भर में निंदा की जा रही है। अमेरिका के प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो, सहित कई कई लोगों ने इस हमले की निंदा करते हुए दुख जताया है। मस्जिदों में हुए भयानक नरसंहार के बाद न्यूजीलैंड के लोगों के प्रति मेरी सहानुभूति है। 49 बेगुनाह लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि कई लोग गंभीर रूप से घायल हैं। हम जो कुछ भी कर सकते हैं उसके लिए यूएस न्यूजीलैंड के साथ खड़ा है। भगवान सब का भला करे!