पुलवामा अटैक देश विदेश कुंभ 2019 मुख्य शहर राज्य राशिफल मनोरंजन बिज़नेस Gadgets ऑटोमोबाइल लाइफस्टाइल स्पोर्ट्स धर्म अजब गजब वीडियो फोटोज रेसिपी ई-पेपर
1.5k
0
0

कुछ महिनों की मेहमान है यह सरकार, चव्हाण ने कहा- झूठ बोलते हैं प्रधानमंत्री 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महानगर और आसपास के इलाकों में विभिन्न परियोजनाओं के शिलान्यास के मुद्दे पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर निशाना साधा है। महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष व सांसद अशोक चव्हाण ने कहा कि झूठ बोलना और जमीन पर न उतर सकने वाली परियोजनाओं का ऐलान करना ही प्रधानमंत्री मोदी की कार्यशैली है, यही कल्याण में हुए कार्यक्रम में भी देखने को मिली। उन्होंने कहा कि जिस तरह हाल ही में पांच राज्यों में हुए चुनाव में वहां के लोगों ने जुमलेबाजी का अंत किया वैसा ही महाराष्ट्र की जनता भी करेगी। उन्होंने कहा कि यह सरकार चंद महिनों के ही मेहमान है। 

चव्हाण ने कहा कि शिर्डी में साईं बाबा के सामने जाकर भी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झूठ बोला था। यही परंपरा उन्होंने कल्याण में भी जारी रखी। पिछले चार सालों में जुमलेबाजी और आंकड़ों के साथ छेड़छाड़ कर विकास का दावा करने के अलावा मोदी सरकार ने कुछ नहीं किया। चुनाव कुछ महीने ही दूर है और जुमलेबाजी के अंत का समय आ गया है। चव्हाण ने कहा कि सिडको गृहनिर्माण योजना के तहत 89771 हजार घर बनाने की परियोजना का भूमिपूजन प्रधानमंत्री के हाथों कल्याण में हुआ। परियोजना के तहत नई मुंबई के विभिन्न रेलवे स्टेशनों के पास घर बनाए जाएंगे। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को राज्य की जनता को यह बताना चाहिए कि नई मुंबई में बनने वाले घरों के लिए भूमिपूजन कल्याण में क्यों किया गया। इसके अलावा परियोजना के लिए अभी टेंडर भी जारी नहीं हुआ है। 

बगैर जमीन अधिग्रहण भूमि पूजन पर सवाल 
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ढाई लाख रूपयों की छूट मिलती है, लेकिन बनने वाले घरों की कीमत 25 लाख रुपए से ज्यादा होगी ऐसे में यह योजना कैसे कामयाब होगी। उन्होंने ठाणे भिवंडी मेट्रो रेल परियोजना को लेकर भी सवाल उठाए। चव्हाण ने कहा कि परियोजना के लिए एक इंच जमीन का भी अधिग्रहण नहीं हुआ। पर्यावरण विभाग की मंजूरी नहीं मिली। रास्ता तय नहीं हुआ, टेंडर नहीं निकला। ऐसे में सिर्फ चुनाव के मद्देनजर भूमिपूजन करना हास्यास्पद है। उन्होंने कहा कि डॉ बाबा साहेब आंबेडकर, शिवाजी स्मारक का भूमिपूजन हुए तीन साल हो गए लेकिन अब तक कहीं एक ईंट भी नहीं रखी गई। बुलेट ट्रेन की भूमिपूजन को भी एक साल हो गया उस परियोजना में भी कई अडचनें हैं।